Friday, 14 September 2018

अब तक 33 कत्ल कबूले

भोपाल के ट्रक ड्राइवरों और कंडक्टरों का सीरियल किलर आदेश खामरा को याद नहीं कि उसने अब तक कितने बेकसूरों का कत्ल किया है। पूछताछ में उसका हर खुलासा पुलिस को हैरान कर रहा है। सोमवार देर रात जब आदेश से सख्त पूछताछ की तो उसने बताया कि तीन और बेकसूरों की उसने जान ली है। तीन में से दो सगे भाई हैं, जबकि तीसरा ट्रक ड्राइवर है। इन तीनों को मिलाकर वह अब तक 33 हत्याएं कर चुका है और इन 33 हत्याओं का गुनाह भी कबूल कर चुका है। इन 33 हत्याओं में 22 ऐसी हैं जिन्हें पुलिस कभी सुलझा ही नहीं पाई थी। हर कत्ल पर आदेश के हिस्से में महज 25 से 30 हजार रुपए ही आते थे। इन 33 में से एक हत्या तो उसने 25 हजार रुपए की सुपारी लेकर भी की है। शनिवार देर रात कड़ी पूछताछ में उसने 16 हत्याएं और कबूलीं जिनमें आठ के आरोप में वह जेल भी जा चुका है। शुक्रवार रात पूछताछ के बीच एसपी साउथ राहुल लोढा को रायपुर पुलिस का कॉल आया। उन्होंने बताया कि राजनंदगांव के पास अलग-अलग स्थानों पर जंगल में तीन ड्राइवर-कंडक्टरों के शव मिले थे। वहीं बेमेतरा के पास पुलिया के नीचे एक और बिलासपुर के पास और एक नदी में लाश मिली है। इस आधार पर पुलिस ने आदेश खामरा से सवाल किए तो उसने इन पांचों बेकसूरों की हत्या का पूरा घटनाक्रम भी पुलिस के सामने उगल दिया। पुलिस का दावा है कि वह अगली वारदात के बारे में तभी बता रहा है जब उससे जुड़े सवाल किए जाएं। इसलिए देशभर की पुलिस को उसके पकड़े जाने की जानकारी भेज दी गई है ताकि देशभर में हुईं उन हत्याओं का भी खुलासा हो सके, जिन्हें वह अब भी छिपा रहा है। कुछ ऐसे जुड़ते गए आदेश के काले कारनामेö15 अगस्त को झगरिया पठार में ड्राइवर माखन सिंह की लाश मिली। 22 अगस्त को पुलिस ने शानू-रितेश और विजय को पकड़ा। रितेश और विजय ने ही लूटा गया सरिया शानू को दिलाया था। पूछताछ में जय करण, वाहिद नूर और साबिर कला के नाम सामने आए। जय करण व साबिर ने महेश राठौर व नसीम के बारे में बताया। इसी बीच सिसरोंद थाने में 25 क्विंटल शक्कर समेत ट्रक की चोरी की शिकायत आई। इसमें जय करण का हाथ होने की जानकारी मिली। पूछताछ में जय करण ने अपने साथियों तुकाराम बंजारा और आदेश खामरा का नाम बताया। पूछताछ अभी जारी है। और भी कई रहस्य खुल सकते हैं। पैसों की खातिर इतने निर्दोषों की हत्या करने वाले इस खूंखार सीरियल किलर ने न जाने कितने परिवार तबाह कर दिए? आखिर सजा भी इसे कड़ी से कड़ी मिलनी चाहिए। अपने आपमें इतने निर्दोषों का कत्ल करने का यह बहुत बड़ा किस्सा है। कई अनसुलझे मर्डरों का पता चलेगा।

-अनिल नरेन्द्र

No comments:

Post a comment