Thursday, 3 January 2019

अमेरिका में शटडाउन ने बढ़ाई सरकारी कर्मियों की मुश्किलें

अमेरिका में संघीय सेवाओं और सरकारी कर्मचारियों को वेतन नहीं मिलने की समस्या नए साल में भी जारी है। वहीं अमेरिका पे दोनों सियासी दलों के बीच जारी आरोप-प्रत्यारोप के दौरान इस समस्या का कोई ठोस समाधान निकलता हुआ भी नहीं दिख रहा है। दरअसल सारा झगड़ा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा संघीय राशि में से अरबों डॉलर अमेरिका-मैक्सिको के बीच दीवार बनाने के लिए मांगी है। विपक्षी डेमोकेटिक पार्टी का कहना है कि वह इस धन का इस्तेमाल दीवार बनाने के लिए नहीं करने देंगे। यह भी स्पष्ट नहीं है कि यह शटडाउन कब तक जारी रहेगा। ट्रंप का कहना है कि जब तक डेमोकेट-अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने के लिए पांच अरब डॉलर का फंड देने को राजी नहीं होते तब तक सरकार में आंशिक बंदी जारी रहेगी। डेमोकेट सांसद सीमा पर दीवार बनाने पर खर्च के खिलाफ हैं। उनका कहना है कि सरकार को दीवार की बजाय सीमा को सुरक्षित बनाने के लिए टेक्नोलॉजी, बाड़ और अन्य तरीकों पर खर्च करना चाहिए। इस शटडाउन का सरकार के विभिन्न कर्मियों पर उनके स्तर के मुताबिक असर पड़ा है। करीब 3,80,000 केंद्रीय कर्मचारियों को जबरन छुट्टी पर भेजा गया है। इनमें वाणिज्य विभाग के 86 फीसदी, नासा के 96 फीसदी, नेशनल पार्प सेवा व वन सेवा के 80-80 फीसदी और यातायात विभाग के 30 फीसदी कर्मचारी हैं। इनके अलावा 4,20,000 कर्मचारियों को शटडाउन की अवधि में बिना वेतन के काम करना होगा। इसमें आंतरिक सुरक्षा के 88 फीसदी और केंद्रीय विभाग (कानून) के 41,000 कर्मचारी हैं। शटडाउन खत्म होने के बाद कांग्रेस की अनुमति से ही इन्हें इस अवधि का वेतन मिल सकेगा। इन कर्मियों को इस अवधि का वेतन कब और कैसे मिलेगा इस पर तो संशय है ही, लेकिन इसने कई परेशानियां भी पैदा कर दी हैं। दिल की सर्जरी के बाद आराम कर रहे मिशेल चैपल की पत्नी आंतरिक सुरक्षा विभाग में काम करती हैं। चैपल ऑपरेशन की वजह से कोई काम फिलहाल नहीं कर सकते। पत्नी का वेतन न मिल पाने से उनके घर में मुश्किल हो गई है। उनके सामने किराये के साथ ही कार की किश्त व चैपल के मेडिकल बिल का भुगतान करने का संकट खड़ा हो गया है। हालांकि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दावा कर रहे हैं कि कई केंद्रीय कर्मचारी दीवार चाहते हैं और उन्होंने कहा भी है कि जब तक इसके लिए कांग्रेस फंड नहीं देती वे शटडाउन के लिए तैयार हैं। इसके विपरीत प्रमुख कर्मचारी यूनियनों ने ट्रंप के इस दावे का खंडन किया है। इस दौरान शटडाउन की वजह से दो बच्चों के मरने के कारण विवाद और बढ़ गया है। ट्रंप का दावा है कि यह मौतें पूरी तरह से डेमोकेट्स और उनकी खराब आक्रामक नीति का नतीजा है जिसने लोगों को लंबी दूरी तय करने और यह सोचने पर मजबूर किया है कि वह अवैध तरीके से हमारे देश में प्रवेश कर सकते हैं। उम्मीद की जाती है कि जल्द यह गतिरोध समाप्त होगा और समाधान का कोई रास्ता निकलेगा।

-अनिल नरेन्द्र

No comments:

Post a comment