Tuesday, 12 June 2018

राजीव की तरह मोदी को मारने की साजिश

भीमा-कोरेगांव में हिंसा के आरोप में पुणे पुलिस की ओर से की गई नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई में चौंकाने वाली एक चिट्ठी हाथ लगी जिसके अनुसार नक्सलियों द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश का खुलासा हुआ है। पुणे के भीमा-कोरेगांव में जनवरी में हुई हिंसा में पांच संदिग्ध नक्सलियों (माओवादियों) की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने यह खुलासा किया है। दिल्ली में गिरफ्तार रोना जेकब विल्सन के मुनिरका स्थित फ्लैट से बरामद लैपटॉप से यह पत्र मिला है, जिसमें मोदी को निशाना बनाने की बात कही गई है। पुणे पुलिस के मुताबिक नक्सलियों ने प्रधानमंत्री के रोड शो को निशाना बनाने की बात लिखी है। इस बीच महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फड़नवीस और उनके परिवार को भी धमकी भरे खत मिले हैं। देवेंद्र फड़नवीस का दावा है कि पुलिस के पास पर्याप्त सबूत हैं। पत्र में लिखा गया है कि मोदी इसी तरह जीतते रहे तो हमें मुश्किल होगी, इनकी राजीव गांधी की तरह हत्या करनी होगी। नरेंद्र मोदी 15 राज्यों में भाजपा की सरकार बनाने में कामयाब हुए हैं। अगर ऐसा ही चलता रहा तो सभी राज्यों पर पार्टी के लिए परेशानी खड़ी हो जाएगी। कामरेड किसन और कुछ अन्य सीनियर माओवादी कामरेड ने मोदी राज खत्म करने के लिए कारगर सुझाव दिए हैं। हम इसके लिए राजीव गांधी जैसे हत्याकांड पर विचार कर रहे हैं। यह आत्मघाती जैसा होगा और इसके कामयाब होने की संभावना भी ज्यादा है। उन्हें रोड शो में टारगेट करना असरदार रणनीति हो सकती है। पार्टी का अस्तित्व किसी भी त्याग से ऊपर है। बाकी अगले पत्र में (विल्सन के फ्लैट से मिले पत्र में यह लिखा हुआ है)। कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने इस पत्र पर संदेह व्यक्त करते हुए कहाöमैं यह नहीं कह रहा हूं कि यह मामला पूरी तरह से झूठ है, लेकिन यह मोदी का पुराना हथकंडा भी रहा है, जब वे मुख्यमंत्री थे। जब प्रसिद्धि कम होने लगे तो हत्या की साजिश की बातें फैलाई जाती हैं। दूसरी ओर केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने इसे सत्तारूढ़ राजग के खिलाफ कुछ राजनीतिक दलों की साजिश करार दिया है। उन्होंने मोदी के नेतृत्व वाली राजग सरकार के खिलाफ नक्सलियों का भी सहयोग लेने से गुरेज करने वाले राजनीतिक दलों को आड़े हाथों लिया। अरुण जेटली ने नक्सलियों के इस सहयोग को शेर की सवारी करार दिया है, जिसमें शेर सबसे पहले अपने सवार को शिकार करता है। हमारी राय में इस धमकी को हल्के में नहीं लिया जा सकता। प्रधानमंत्री मोदी की हत्या की साजिश इसलिए कहीं अधिक गंभीर बात है। क्योंकि नक्सली सुरक्षाबलों के साथ-साथ बड़े नेताओं को भी निशाना बना चुके हैं। सभी इससे अवगत हैं कि नक्सलियों ने कुछ वर्ष पहले सुकमा में किस तरह छत्तीसगढ़ कांग्रेस के शीर्ष नेताओं की हत्या की थी। मामले में पूरी सतर्पता बरतनी होगी।

No comments:

Post a comment