Thursday, 28 June 2018

अमरनाथ यात्रा के दौरान आतंकी हमले की चेतावनी

अमरनाथ यात्रा मार्ग पर आतंकी हमले की आशंका को ले सोमवार को खुफिया एजेंसियों ने नया अलर्ट जारी किया है। इसके मद्देनजर रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण, सेना पमुख विपिन रावत और जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा ने बालटाल आधार शिविर पहुंचकर सुरक्षा इंतजामों का जायजा लिया। 28 जून से शुरू हो रही अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू से बालटाल और दक्षिण कश्मीर के पहलगांव के बीच दो आधार शिवरों के करीब 400 किलोमीटर यात्रा मार्ग को सुरक्षित रखने के लिए सेना व अर्द्धसैनिक बलों की 213 अतिरिक्त कंपनियां तैनात की गई हैं। हेलीकाप्टर व ड्रोन से भी निगरानी की जा रही है। यात्रा मार्ग में एनएसजी के कमांडो व स्नाइपर भी तैनात किए गए हैं। सोमवार को खुफिया एजेंसियों ने गृह व रक्षा मंत्रालय को अलर्ट जारी किया कि लश्कर--तैयबा के करीब 20 आतंकियों का समूह अमरनाथ यात्रा के दौरान यात्रियों को अपना निशाना बना सकता है। आतंकियों का यह गुट दो हिस्सों में बंटकर घुसपैठ कर चुका है। पहले समूह में करीब 11 से 13 आतंकी और दूसरे समूह में छह से सात आतंकी शामिल हैं। ये सभी बालटाल रूट पर `कंगन' नामक जगह पर हमले की योजना बना रहे हैं। तीर्थ यात्रियों का पहला जत्था 27 जून को भगवती नगर आधार शिविर से रवाना हो गया है। इस बार यात्रा से जुड़ी गाड़ियों में पुख्ता इंतजाम करने हेतु टैकिंग चिप लगाई गई हैं। हिमालय पर 3880 मीटर की ऊंचाई पर स्थित पवित्र अमरनाथ गुफा के लिए 60 दिवसीय यात्रा 28 जून से शुरू हो रही है। पहली बार आधार कैंप जम्मू में भक्तों के लिए एसी वाले हाल बनवाए गए हैं, जबकि पीने के पानी के रूट पर आरओ वाटर का इतजांम किया गया है। बाबा के दर्शन के लिए अब देशभर में अलग-अलग बैंकों की 440 ब्रांचों से करीब दो लाख से अधिक भक्त पंजीकरण करवा चुके हैं। यह पहली बार है कि जब अमरनाथ यात्रा की पहरेदारी की जिम्मेदारी एनएसजी को मिली है। श्राइन बोर्ड के अधिकारियों ने बताया कि दोनों रूटों पर 15 हजार यात्रियों को छोड़ा जाएगा। इसके अलावा मार्ग से जाने वाले यात्रियों की गिनती अलग है। तीन पाइवेट कंपनियों के हेलीकाप्टर से भक्तों को गुफा तक लेकर जाया जाएगा। दोनों रूट पर इस बार 120 लंगर होंगे। ये देशभर से आए लंगर कमेटी के लोगों की तरफ से लगाए गए हैं। इनके खाने-पीने के सामान की हर रोज जांच की जाएगी। उसके बाद ही भक्तों को लंगर में भोजन करने दिया जाएगा। यात्रा के मुख्य आधार शिविर भगवती नगर में सीआरपीएफ की एक महिला कंपनी तैनात होगी। ऐसा पहली बार हो रहा है। हम पूरी उम्मीद करते हैं कि बाबा अमरनाथ की इस पवित्र यात्रा में कोई हमला न हो। ओम नम शिवाय।

No comments:

Post a comment