Sunday, 10 July 2016

जुर्म के नामचीन खिलाड़ी

पूर्व ब्लेड रनर के नाम से विश्व ख्याति के एथलीट ऑस्कर पिस्टोरियस को अपनी गर्लफ्रैंड की हत्या के केस में छह साल की सजा सुनाई गई है। 29 साल के पिस्टोरियस ने तीन साल पहले रीवा स्टोनकैप की गोली मारकर हत्या कर दी थी। एक साल जेल काटने के बाद पिछले साल अक्तूबर में पिस्टोरियस को रिहा कर दिया गया था। तब से वे नजरबंद थे। माना यह जा रहा था कि उन्हें कम से कम 15 साल की सजा होगी पर जज ने रियायत दे दी। बता दें कि पिस्टोरियस जब छोटे थे तभी से उनके दोनों पैरों के निचले हिस्से खराब हो गए थे। वह रेस के दौरान फाइबर के दोनों नकली पैर लगाकर दौड़ते थे। इसी वजह से दक्षिण अफ्रीका और फिर सारी दुनिया में वह ब्लेड रनर के नाम से जाने जाने लगे। पिस्टोरियस ऐसे अकेले खिलाड़ी नहीं जो गंभीर अपराध में लिप्त रहे। कुछ और नामी खिलाड़ी भी अपराधों में फंस चुके हैं। ताजा उदाहरण दुनिया के सबसे बड़े फुटबॉलर लियोनेल मेसी का है जिन्हें स्पेन की एक अदालत ने 21 महीने की जेल की सजा सुनाई है। साथ ही 15 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। मेसी दुनिया के दूसरे सबसे अमीर खिलाड़ी हैं। अर्जेंटीना के मेसी के खिलाफ 2007 से 2009 के बीच स्पेन में 31 करोड़ रुपए की टैक्स चोरी का आरोप है। इसके लिए उन्होंने उरुग्वे और बेलिज में फर्जी कंपनी बनाकर घोटाले किए। मामले में मेसी के पिता जॉर्ज को भी बराबर की सजा हुई है। इस बाबत मेसी ने कहाöमैं तो सिर्प फुटबॉल खेलता हूं। मुझे आर्थिक मामलों की कोई जानकारी नहीं होती। स्पेन के कानून के मुताबिक अहिंसक मामलों में दो साल से कम की सजा मिलने पर जेल नहीं जाना पड़ता है। इस दौरान उन्हें सिर्प निगरानी में रहना होता है। वे इस फैसले को स्पेन के सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे सकते हैं। लियोनल मेसी की सालाना कमाई 543 करोड़ रुपए बताई जाती है। जुर्माना 31 करोड़ टैक्स चोरी का है। बॉक्सिंग की दुनिया का अपराध से करीबी रिश्ता रहा है। अमेरिका के न्यू जर्सी में 1966 में हुई तीन हत्याओं में अमेरिकी मुक्केबाज कार्टर को भी आरोपी बनाया गया और 20 साल की कैद की सजा हुई। 1985 में अदालत ने फैसला पलटा और कहा कि कार्टर नस्ली भेदभाव के शिकार हुए हैं। हत्या के गलत इल्जाम में कार्टर को 1967 में गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद मोहम्मद अली, बॉब डाइलन जैसे बॉक्सर्स ने उनका काफी बचाव किया। अप्रैल 2014 में 76 साल की उम्र में कैंसर से उनकी मौत हो गई। माइक टाइसन नामक मशहूर बॉक्सर को 1991 में दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। डेसिरी वाशिंगटन नामक युवती ने उन पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था, जो उस समय एक ब्यूटी कॉन्टेस्ट की प्रतियोगी थी। हालांकि टाइसन का कहना था कि उस वक्त जो हुआ वह डेसिरी की सहमति से था। 26 जनवरी 1992 से 10 फरवरी 1992 तक मामले की सुनवाई चली। अदालत ने टाइसन को छह साल की सजा सुनाई। अमेरिका में एक और फुटबॉलर खिलाड़ी व हॉलीवुड के मशहूर अभिनेता ओजे सिम्पसन का केस अखबारों की सुर्खियों में रहा। ओजे सिम्पसन को दिसम्बर 2008 में अपहरण और लूट के आरोप में 33 साल की सजा सुनाई गई थी। सिम्पसन उन छह लोगों में शामिल थे, जिन्होंने 2007 में लॉस वेगॉस के एक होटल में दो व्यापारियों को बंदूक की नोंक पर बंधक बनाया था। इससे पहले 1995 में सिम्पसन को हत्या के एक अन्य मामले में बरी कर दिया गया था। टोन्या होर्डिंग नामक अमेरिकी आईस स्केटर ने 1994 में प्रतिस्पर्द्धी नैन्सी केरिगनन्स के पैर तोड़ने के लिए सुपारी दी थी। तब नैन्सी विंटर ओलंपिक की सिल्वर मैडल विजेता थीं। खुलासा होने पर टोन्या पर जुर्माना लगाया गया और उन्हें तीन साल खेल से दूर रखा गया। ब्राजील के फुटबॉलर ब्रूनो फर्नांडीस को पूर्व गर्लफ्रैंड एलिजा सेमूडियो की हत्या के आरोप में 22 साल कैद की सजा सुनाई गई थी। एलिजा ने ब्रूनो के बच्चे को जन्म दिया जिसे वे अपना नाम नहीं देना चाहते थे। इसलिए फुटबॉलर ने पत्नी और आठ लोगों के साथ मिलकर एलिजा का अपहरण किया, फिर उसे शहर से दूर ले जाकर मार डाला और शव के टुकड़े कर कुत्तों को खिला दिए।

-अनिल नरेन्द्र

No comments:

Post a comment