Saturday, 9 July 2016

पाक नागरिक ने किया था सऊदी में आत्मघाती हमला

सोमवार को सऊदी अरब तीन आतंकी हमलों से दहल गया था। सऊदी अरब के गृह मंत्रालय ने एक चौंकाने वाली सूचना देते हुए बताया कि इन तीन हमलों में से पहला आत्मघाती हमला अमेरिकी वाणिज्यिक दूतावास के बाहर किया गया था जिसको एक पाकिस्तानी ने किया था। इस हमले को अंजाम देने वाला 34 वर्षीय अब्दुल्ला गुलजार खान था। वह 12 साल पहले पाकिस्तान से सऊदी अरब पहुंचा था और वहां गाड़ी चलाता था। इस हमले में दो सुरक्षा गार्ड घायल हुए थे लेकिन अमेरिकी वाणिज्यिक दूतावास का कोई भी व्यक्ति हताहत नहीं हुआ था। हमें यह सुनकर आश्चर्य नहीं हुआ। पाकिस्तान पिछले कुछ समय से वैश्विक आतंकवाद का गढ़ बन चुका है। हमारे जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमलों में इस साल पिछले साल के मुकाबले 65 फीसद इजाफा हुआ है। आए दिन सुरक्षा बलों पर हमले होते रहते हैं। ताजा खबर के मुताबिक भारत में आतंकी हमले को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान में कहने को प्रतिबंधित आतंकी संगठन जैश--मोहम्मद फंड जुटाने की कोशिश कर रहा है। कराची की जामिया उलूम--इस्लाम सेमिनरी मस्जिद के बाहर खड़े होकर जैश आतंकी लोगों से अपील कर रहे हैं कि वो जेहादियों की मदद के लिए दिल खोलकर चन्दा दें। आतंकी संगठन के इस कारनामे का एक वीडियो सामने आने से पाकिस्तान में हड़कंप मच गया है। वीडियो फुजेट में एक शख्स भारत के खिलाफ कश्मीर में और अमेरिका के खिलाफ अफगानिस्तान में जेहाद के लिए मुजाहिद्दीन की मदद करने की अपील कर रहा है। यह फुटेज कराची के जैकब लाइन एरिया में स्थित एक मस्जिद के बाहर रिकार्ड किया गया है। एक शख्स लोगों से चन्दा देने की अपील करते हुए कहता हैöअल्लाह और इस्लाम के लिए लड़ रहे जैश--मोहम्मद के उन साहसी युवाओं के लिए कुछ दान कीजिए। फुटेज में यह भी साफ दिख रहा है कि चन्दा मांगने वाले लोगों के आसपास पुलिस भी है लेकिन वह उन्हें रोकने की जरा भी कोशिश नहीं करती। जनवरी में इसी जैश--मोहम्मद ने पठानकोट एयरबेस पर आतंकी हमला करवाया था। बता दें कि पिछले शुक्रवार को ढाका में हुए हमले के बाद भी वहां की पीएम के एडवाइजर ने इसे आईएसआई की साजिश बताया था। अब सऊदी अरब भी पाकिस्तान का नाम ले रहा है। पाकिस्तान के राजदूत मंजूर उल हक से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया। सीएनएन के मुताबिक सऊदी में हुए हमलों पर अमेरिका ने सख्त रुख अख्तियार किया है। अपनी एम्बेसी के नजदीक हुए हमले पर उसने सऊदी सरकार से पूरी रिपोर्ट मांगी है। मरीज बनकर पाक हमलावर दूतावास के पास की मस्जिद की ओर जा रहा था। रोका तो खुद को उड़ा ]िलया। बता दें कि मक्का के बाद मदीना इस्लाम धर्म में सबसे पवित्र स्थान है।

-अनिल नरेन्द्र

No comments:

Post a comment