Wednesday, 27 July 2016

दिल्ली में हाई-प्रोफाइल सेक्स रैकेट

दक्षिण दिल्ली जिला ने एक बड़े अंतर्राष्ट्रीय सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया है। दक्षिण दिल्ली के पॉश सफदरजंग एन्क्लेव इलाके में सेक्स रैकेट चलाने वाले प्रतिन्दर सिंह सान्याल (63) को गिरफ्तार कर लिया  गया है। आयकर विभाग की छापेमारी करने गए अधिकारियों को मिले दस्तावेज की जांच के बाद पुलिस को इस रैकेट के बारे में पता चला था। आरोपी सान्याल मूलरूप से लखनऊ का रहने वाला है। प्रतिन्दर सिंह सान्याल के अलावा इस मामले में सेना से रिटायर्ड कर्नल अजय अहलावत को भी हिरासत में लिया गया है। आरोपी खुद को सांसद बताकर यूपी के आईएएस अफसरों को काम करवाने के लिए मैसेज और फोन करता है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस सेक्स रैकेट में मध्य एशियाई देशों की ल़ड़कियों के शामिल होने की बात भी सामने आई है। आरोपी सान्याल ने पुलिस को बताया कि वह एक आईटी कंपनी में कंसल्टेट है। हालांकि पुलिस के सामने वह इस बारे में कोई सबूत पेश नहीं कर सका। पुलिस को कई बैंक खातों से सान्याल के खाते में पैसे ट्रांसफर होने के सबूत भी मिले हैं। पुलिस को पता चला है कि सान्याल के ग्राहकों में राजनेता, व्यापारी से लेकर सेना के अधिकारी तक शामिल हैं। बताया जा रहा है कि सान्याल और उसके सहयोगी अजय अहलावत की तस्वीरें नामचीन क्रिकेटरों और राजनेताओं के साथ मिलने से जांच एजेंसी भ्रमित है। शुक्रवार को दक्षिण जिले के पुलिस आयुक्त ने देर रात प्रेस कांफ्रेंस पर इस मामले में राजनेताओं के शामिल होने की बात से इंकार किया था, लेकिन पीएन सान्याल के मोबाइल से राजनेताओं के नाम का एसएमएस और सान्याल के घर पर लगी फोटो व लेटरहैड मिलने से मामला संदिग्ध हो गया है। दरअसल सान्याल के घर ए-2 सफदरजंग एन्क्लेव पर जब आयकर विभाग ने छापा मारा तो घर से एक रूसी युवती मिली थी। छापे के दौरान ही युवती ने चाकू से हाथों की नसें काट लीं। आयकर विभाग ने ही दक्षिण दिल्ली जिला पुलिस को इसकी जानकारी दी थी। डीसीपी ने बताया कि विदेशी युवती ने बयान दिया है कि सान्याल ने उसे बंधक बनाकर रखा हुआ था। सान्याल ने उसका पासपोर्ट व अन्य कागजात कब्जे में ले रखे थे। ईश्वर सिंह (डीसीपी) ने बताया कि लखनऊ के गोमती नगर व दिल्ली स्थित फ्लैट से कई विदेशी लड़कियों के फोन नम्बर, पासपोर्ट की फोटोकॉपी और यात्रा से संबंधित कागजात बरामद हुए हैं। लड़कियां सान्याल के पास आती रहती थीं। बरामद दस्तावेजों से लगता है कि यहां लंबे समय से सेक्स रैकेट व धोखाधड़ी का रैकेट चल रहा था। ऐसे दस्तावेज भी मिले हैं, जिनसे लगता है कि विदेशी लड़कियों की सप्लाई की एवज में उसने अपने खातों में मोटी रकम कमाई है। डीसीपी ने बताया कि यह बहुत बड़ा रैकेट है। इसे देखते हुए मामले की जांच के लिए स्पेशल टीम बनाई गई है। रूसी युवती ने पुलिस को बताया कि उसे सान्याल से अजय अहलावत ने मिलवाया था। वह विदेशी युवतियों को भारत बुलाता था। अहलावत सेना से वीआरएस लेकर वसंत पुंज में रह रहा था। रैकेट में आर्मी के और अफसरों के नाम भी सामने आ सकते हैं। ऐसा भी हो सकता है कि सेना की गुप्त सूचनाएं भी लीक होती हों।

-अनिल नरेन्द्र

No comments:

Post a comment