Thursday, 7 July 2016

मुसलमानों के सबसे पवित्र महीने में, सबसे पवित्र देश में धमाके

मुसलमानों के सबसे बड़े धार्मिक स्थल सऊदी अरेबिया के तीन शहरों में आत्मघाती हमलों ने चौंका दिया है। बगदाद और ढाका के खौफनाक आतंकी हमलों के तुरन्त बाद हुए इन हमलों से पता चलता है कि सऊदी जैसा देश भी अब सुरक्षित नहीं है। बहुत से लोगों का कहना है कि सारी दुनिया में आतंकवाद को बढ़ावा देने वाला सऊदी अरब अब खुद अपने ही द्वारा की गई व्यूहरचना में फंसता जा रहा है। पवित्र माह रमजान में हुए इन धमाकों में कम से कम नौ लोगों के मरने की खबर है और बहुत से लोग घायल हो गए। हमलावरों ने इस्लाम में दूसरे सबसे पवित्र शहर मदीना स्थित पैगम्बर मस्जिद के सुरक्षा मुख्यालय, अमेरिकी राजनयिकों और शियाओं को निशाना बनाया। ये हमले ऐसे समय हुए हैं जब कुछ दिन पहले ही आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने एक के बाद एक तुर्की, ढाका और बगदाद में बड़ी तादाद में लोगों की हत्याएं कीं। माना जा रहा है कि ईद-उल-फितर के त्यौहार को देखते हुए ये हमले किए गए हैं। मदीना में पैगम्बर मस्जिद के सुरक्षा मुख्यालय के पास आत्मघाती धमाके में हमलावर के अलावा चार सुरक्षाकर्मियों और दो नागरिकों की मौत हो गई। हालांकि सऊदी सरकार के अल-अरबिया टेलीविजन ने मदीना धमाके में तीन आत्मघाती हमलावरों के अलावा दो सुरक्षा अधिकारियों के मारे जाने की खबर दी है। उधर पूर्वी सऊदी अरब के कातिफ में शिया मस्जिद के बाहर एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को उड़ा लिया। हालांकि इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है। इससे पहले जेद्दा शहर में सोमवार तड़के अमेरिकी मिशन के पास भी आत्मघाती हमला हुआ। सऊदी के पवित्र शहर मदीना में मस्जिद--हरम के पास बने थाने के गेट पर एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को बम से उड़ा लिया। जिस वक्त यह घटना हुई उस वक्त मुरादाबाद के तीन निर्यातक परिवार भी मदीना में मौजूद थे। घटनास्थल से थोड़ी दूरी पर ही एक होटल में ठहरे मुरादाबाद के निर्यातक परिवारों का कहना है कि अचानक तेज धमाका हुआ और ऐसा लगा जैसे पूरी धरती हिल गई हो। धमाका मगरिव की नमाज के वक्त हुआ। इसलिए ज्यादातर लोग या तो मस्जिद में थे या फिर रोजा खोलने के लिए जा चुके थे। शुरू में लोगों को समझ नहीं आया कि हुआ क्या है? लेकिन धमाके के थोड़ी देर बाद ही पूरे इलाके में धुएं का गुब्बार उठने लगा और आकाश में धुआं छा गया। एक प्रवक्ता ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि अमेरिकी अधिकारियों को जेद्दा में हुए विस्फोट की जानकारी है और वे अधिक जानकारी एकत्र करने के लिए सऊदी के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

-अनिल नरेन्द्र

No comments:

Post a comment